इस फार्मूला से जमा करें 1 करोड़ का फंड, आसान तरीका » A1 Factor


निवेश के बारे में सोचते समय, एक बड़ा प्रश्न होता है – “1 करोड़ रुपये इकठ्ठा करने में कितना समय लगेगा?” यह वास्तव में आपके निवेश के तरीके, निवेश की राशि, निवेश की अवधि, और निवेश के लाभ के आधार पर निर्भर करता है। निवेश करने का मतलब है अपनी धनराशि को एक या अधिक स्रोतों में लगाना ताकि वह बढ़ सके। जब आप अपनी धनराशि को बचतों, शेयरों, या अन्य निवेश विकल्पों में निवेश करते हैं, तो आपका प्राथमिक लक्ष्य होता है कि आपका पूंजी बढ़े।


WhatsApp चैनल ज्वाइन करें


Join Now

कम्पाउंडिंग यहाँ महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह एक वित्तीय प्रक्रिया है जिसमें निवेश की अधिकतम लाभ प्राप्ति के लिए निवेश के लाभ को दोहराया जाता है। यह लंबे समय तक निवेश के माध्यम से अपने पूंजी को बढ़ाने का सबसे सशक्त तरीका होता है।

समय के साथ, धीरे-धीरे निवेश की राशि की गिनती गुणा करती है, और इस तरह से आपकी बचत में वृद्धि होती है। अगर आप अपने निवेश को समय से पहले अच्छी तरह से योजना करते हैं, तो लंबे समय तक आप अपनी बचत को कई गुना तक बढ़ा सकते हैं, और इससे आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार हो सकता है।

कम्पाउंडिंग से बनें अमीर: धनवृद्धि का जादू

कम्पाउंडिंग एक अद्भुत वित्तीय सिद्धांत है जो आपको धन की बढ़ोतरी में सहायक होता है। साधारण ब्याज में आप अपने निवेश पर ही ब्याज प्राप्त करते हैं, लेकिन कम्पाउंडिंग ब्याज आपको प्राप्त ब्याज पर भी ब्याज देता है। इसका मतलब है कि आपका निवेश और भी तेजी से बढ़ता है।

यह विशेष तरीके से लंबे समय तक निवेश करने पर विशेष रूप से प्रभावी होता है। जब आप लंबे समय तक निवेश करते हैं, तो प्राप्त ब्याज को पुनः निवेश किया जाता है, जिससे आपकी निवेश राशि और भी बढ़ जाती है।

कम्पाउंडिंग को “धन का आठवां अजूबा” कहा जाता है, क्योंकि यह छोटी-छोटी राशि को लंबे समय में बड़ा फंड बना सकता है। यह एक स्वाभाविक प्रक्रिया है जो निवेशकों को धन की बढ़ोतरी में सहायक होती है और उन्हें आर्थिक स्वतंत्रता प्रदान करती है। इसलिए, कम्पाउंडिंग का उपयोग करके निवेश करना एक सामान्य व्यक्ति को धनी बनाने का एक महत्वपूर्ण और प्रभावी तरीका हो सकता है।

8-4-3 फार्मूला: धन का गठन नियम

8-4-3 फार्मूला एक प्रभावी धन संचय तकनीक है जो निवेशकों को धन की बढ़ोतरी के लिए मार्गदर्शन प्रदान करता है। इस नियम के अनुसार, यदि आप 1 करोड़ रुपया जमा करना चाहते हैं, तो आपको 8-4-3 के फार्मूले को समझना होगा।

यहां, “8” का मतलब है कि आपको अपने निवेश को 8 साल तक जारी रखना चाहिए। “4” का मतलब है कि आपको हर साल कम से कम 4 गुना निवेश करना चाहिए, और “3” का मतलब है कि आपको अपने निवेश को हर साल कम से कम 3% का ब्याज प्राप्त करना चाहिए।

इस फार्मूले के अनुसार, यदि आप 21,250 रुपये की SIP म्यूचुअल फंड में हर महीने 12% के ब्याज के साथ निवेश करते हैं, तो आप 8 साल में लगभग 33.37 लाख रुपया जमा कर लेंगे। यह तकनीक धन की निवेश करने की एक समझदार और प्रभावी तकनीक है जो आपको संचय करने के लिए प्रेरित कर सकती है।

कम्पाउंडिंग की शक्ति: धन की बढ़ोतरी का राज

कम्पाउंडिंग की अद्भुत शक्ति को समझने के लिए यह एक उत्कृष्ट उदाहरण है। अगर आप निवेश को जारी रखते हैं, तो दूसरे 33.33 लाख के लिए 4 वर्ष का समय लगेगा, लेकिन अगर आप 3 साल में निवेश करते हैं, तो 33.33 लाख रुपया जमा हो जाएगा। इस प्रकार, आप 15 साल में 8-4-3 फार्मूले के साथ 1 करोड़ रुपया जुटा सकते हैं।

इसके अतिरिक्त, यदि आप SIP को जारी रखते हैं, तो 22 वें साल में सिर्फ 1 वर्ष में आप 33 लाख बना लेंगे। यहां, कम्पाउंडिंग आपको धनी बनाने में सक्षम है। धन को बढ़ावा देने के लिए, इस तकनीक का उपयोग करना आपको धन की अधिकतम बढ़ोतरी में मदद कर सकता है और अंततः आपको आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

Disclaimer: A1Factor.Com पोस्ट के माध्यम से लोगों में फाइनेंशियल एजुकेशन प्रोवाइड कराता है। म्‍यूचुअल फंड और शेयर मार्केट निवेश बाजार जोखिमों के अधीन है। हम सब SEBI से पंजीकृत वित्तीय सलाहकार नहीं हैं। आप अपने पैसे को निवेश करने के लिए स्वतंत्र है। कृपया अपनी समझदारी और सूझ बूझ के साथ ही निवेश करें। निवेश करने से पहले पंजीकृत एक्सपर्ट्स की राय जरूर लें।



Source link

Leave a Comment