टैक्सपेयर्स 7 साल की सजा हो जाएगी यदि ये गलती कर दी, जुर्माना हो सकता है लाखों का


Tax Evasion Measures

कर चोरी रोकथाम के लिए सरकार और CBDT (Central Board of Direct Taxes) ने कई कदम उठाए हैं। इनमें संदिग्ध करदाताओं पर नजर रखना और कर चोरी के मामलों में कड़ी कार्रवाई शामिल है।


Warning to Salaried Individuals

CBDT ने साफ चेतावनी दी है कि वेतनभोगी लोग अपनी आय कम दिखाकर या झूठे कर छूट दावे कर गलत ITR न भरें।


Penalties for Misreporting

गलत ITR दाखिल करने पर न सिर्फ जुर्माना बल्कि कानूनी कार्रवाई भी होगी। इसमें Income Tax Act के तहत विभिन्न प्रकार की सजा का प्रावधान है।

Provisions of Tax Evasion

अगर कर चोरी की गई है तो उसके लिए विशेष सजा का प्रावधान है। यह जुर्माना और सजा गड़बड़ी के प्रकार पर निर्भर करता है।


Misrepresentation in Returns

अगर कोई व्यक्ति गलत दावा करता है तो इसे कर चोरी माना जाएगा। इसमें सलाहकार और कर्मचारी दोनों पर कार्रवाई होगी।

Automated Checking System

आयकर विभाग के पास एक स्वचालित प्रणाली है जो ITR की जांच करती है। इसमें किसी भी प्रकार की हेराफेरी संभव नहीं है।

Vigilance in Public Sectors

सरकारी विभागों के कर्मचारियों की गलत दावों की जांच Vigilance Department करेगा। इसमें Section 270A के तहत जुर्माना लगेगा।

Penalties for False Documents

गलत दस्तावेज़ों के उपयोग पर जुर्माना 200% तक हो सकता है। सेक्शन 276C के तहत कार्रवाई में 6 महीने से 7 साल तक की सजा हो सकती है।

Unexplained Income

अज्ञात स्रोतों से आय होने पर 10% की दर से जुर्माना लगेगा। यह Section 271AAC के तहत है।

Penalties for Non-Filing

अगर ITR नहीं फाइल किया गया है तो 5000 रुपए तक का जुर्माना हो सकता है। टीडीएस रिटर्न न फाइल करने पर 10 हजार से 1 लाख रुपए तक का जुर्माना है।



Source link

Leave a Comment