Reliance पावर शेयर ने किया बड़ा धमाका! खरीदने के लिए मची लूट » A1 Factor


अनिल अंबानी के रिलायंस ग्रुप की कई कंपनियां चुनौती में हैं, लेकिन रिलायंस पावर शेयर की जबरदस्त डिमांड ने निवेशकों को नए उत्साह के साथ देखने को मिला है। इस शेयर की कीमत 35 रुपये से भी कम है, लेकिन हाल के व्यापारिक दिनों में इसमें उच्च आंकड़े दर्ज किए गए हैं। रिलायंस पावर को एक ‘पेनी स्टॉक’ की कैटेगरी में शामिल किया जा रहा है, लेकिन निवेशकों के बीच इसमें बढ़ती रुचि ने एक नई कहानी को शुरू किया है। इसके अंदर छिपे निवेशी क्षमता को ध्यान में रखते हुए, रिलायंस पावर के शेयर ने आखिरी कारोबारी दिन में विशेषकर बढ़ती डिमांड दिखाई।


WhatsApp चैनल ज्वाइन करें


Join Now

इसमें शामिल निवेशकों को एक नई आशा की किरण मिल रही है, जिससे यह लगता है कि रिलायंस पावर शेयर ने नए मोड़ पर आगे बढ़ने का संकेत दिया है। निवेशकों के लिए यह एक सुनहरा मौका हो सकता है जो इस शेयर के माध्यम से नए निवेश की दिशा में कदम रखना चाहते हैं इस नए चुनौतीपूर्ण समय में, रिलायंस पावर का शेयर एक बेहतर भविष्य की आशा दिखा रहा है, जो निवेशकों के लिए नई राह की प्रेरणा प्रदान कर सकता है।

रिलायंस पावर: तेजी में वृद्धि, निवेशकों को लाभ

रिलायंस पावर के शेयर की मजबूती का साक्षात्कार हो रहा है, जब इसने बीते गुरुवार को 2.06% की बढ़त के साथ 30.22 रुपये पर बंद हुआ। यह वृद्धि बीते दिन की मुकाबले हुई है। 8 जनवरी को शेयर की कीमत ने 33.10 रुपये का स्तर छुआ, जो इसके 52 हफ्ते के हाई को दर्शाता है। यह शेयर के मूल्य में मजबूती का प्रतीक है और निवेशकों को आत्मविश्वास प्रदान करता है।

Reliance Power Share big update
Reliance Power Share big update

28 मार्च 2023 को इस शेयर की कीमत केवल 9.05 रुपये थी, जिससे यह स्पष्ट है कि विशेषज्ञता और सही निर्णयों के साथ निवेश में वृद्धि संभव है। इस साल अब तक, रिलायंस पावर ने निवेशकों को 30% से ज्यादा का रिटर्न प्रदान किया है, जो एक सुरक्षित निवेश के रूप में प्रतिष्ठान बढ़ाता है। छह महीने में शेयर ने 82% और पिछले एक साल में 140% का रिटर्न दिया है, जिससे यह उजागर होता है कि रिलायंस पावर ने निवेशकों को बेहतरीन लाभ प्रदान किया है। इसमें आगे भी वृद्धि की संभावना है, जो निवेशकों को नए संभावनाओं की दिशा में देखने के लिए प्रेरित कर रहा है।

रिलायंस पावर: साझेदारी में विश्वासनीयता

दिसंबर 2023 तक रिलायंस पावर की शेयरहोल्डिंग पैटर्न में नए दरवाजे खुले हैं, जिससे निवेशकों को एक सुरक्षित और स्थिर निवेश का मौका प्राप्त हो रहा है। प्रमोटर की 24.49 फीसदी हिस्सेदारी ने कंपनी को मजबूती और स्थिरता का संकेत दिया है, जबकि बची हुई 75.51 फीसदी हिस्सेदारी ने दिखाया है कि जनता में भरोसा बढ़ रहा है। प्रमोटर अनिल अंबानी के पास कंपनी के 4,65,792 शेयर हैं, जो उनके सतत और विशेषज्ञ निर्णयों का परिणाम हैं। उनकी पत्नी टीना अंबानी भी बड़े हिस्से में साझेदारी रखती है, जिससे शेयरहोल्ड्स को विश्वास का एक और कारगर संकेत मिलता है।

अनिल अंबानी के दोनों बेटों के पास भी एक स्वर्णिम हिस्सेदारी है, जो उनके उत्कृष्ट प्रबंधन क्षमता को दर्शाता है। प्रमोटर में रिलायंस इंफ्रा की शामिलगी ने भी शेयरहोल्डिंग में विविधता बढ़ाई है, जिससे निवेशकों को विभिन्न सेक्टरों के अवसरों का लाभ हो सकता है। रिलायंस इंफ्रा के पास कंपनी के 93,01,04,490 शेयर हैं, जो शेयरहोल्डिंग में मजबूती और भरोसा दिखाता है। इस पूरे संरचना में विश्वासनीयता और सुरक्षा के साथ, रिलायंस पावर निवेशकों के लिए एक स्थिर विकल्प के रूप में प्रतिष्ठान बना रहा है।

रिलायंस पावर: समीक्षा बैठक में निरीक्षण और निर्णयों की प्रतीक्षा

रिलायंस पावर लिमिटेड ने 27 जनवरी को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को सूचित किया कि कंपनी के निदेशक मंडल की बैठक 3 फरवरी 2024 को होगी। इस बैठक के दौरान, दिसंबर 2023 के समाप्त तिमाही के नतीजों की घोषणा की जाएगी और विभिन्न पहलुओं पर चर्चा होगी। सितंबर तिमाही में रिलायंस पावर ने अधिक राजस्व के कारण घाटा कम करते हुए ₹237.76 करोड़ का घाटा होने की जानकारी दी है। तिमाही के दौरान इसकी कुल आय में वृद्धि होकर ₹2130 करोड़ हो गई है, जो कंपनी के निवेशकों के लिए एक सकारात्मक संकेत हो सकता है।

बैठक में यहाँ आने वाले निर्णयों के बारे में जानकारी मिलने की आसानी से, निवेशकों को इस घड़ी में अपने निवेश को देखने का एक सुनहरा मौका मिल सकता है। दिसंबर 2023 के तिमाही के नतीजों का ऐलान, संबंधित बाजारों में नई दिशा से मुद्रण हो सकता है और रिलायंस पावर के निवेशकों को आगे की योजना बनाने का एक नया पहलु मिल सकता है।

रिलायंस पावर: ऊर्जा क्षेत्र में प्रमुख योगदान

रिलायंस पावर ने भारत में ऊर्जा क्षेत्र में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका बनाई है और सहायक कंपनियों के साथ मिलकर विभिन्न स्रोतों से बिजली उत्पादन में अग्रणी भूमिका निभा रही है। कंपनी की बिजली परियोजनाएं कोयला, गैस, पनबिजली, पवन, और सौर ऊर्जा पर आधारित हैं, जिससे विभिन्न साधनों के माध्यम से बेहतर और संतुलित ऊर्जा उत्पादन हो रहा है।

कंपनी की प्रमुख बिजली उत्पादन क्षमता 416 गीगावॉट है, जो भारत की ऊर्जा आवश्यकताओं को पूर्ण करने में महत्वपूर्ण योगदान कर रही है। यह विभिन्न ऊर्जा स्रोतों का संपर्क करने के माध्यम से सुरक्षित, सुस्त, और स्वच्छ ऊर्जा उत्पादन करने का प्रयास कर रही है, जिससे भारत की ऊर्जा स्वावलंबन में मदद हो रही है। रिलायंस पावर की स्थापना 1995 में हुई थी, और तब से ही कंपनी ने अपने प्रगति और नवाचार के माध्यम से ऊर्जा क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण स्थान बनाया है। उसका निरंतर उत्कृष्टता की प्रक्रिया और विकसीत संघर्ष करने का प्रयास उसे एक विश्वस्तरीय ऊर्जा कंपनी बना रहा है।

Disclaimer: A1Factor.Com पोस्ट के माध्यम से लोगों में फाइनेंशियल एजुकेशन प्रोवाइड कराता है। म्‍यूचुअल फंड और शेयर मार्केट निवेश बाजार जोखिमों के अधीन है। हम सब SEBI से पंजीकृत वित्तीय सलाहकार नहीं हैं। आप अपने पैसे को निवेश करने के लिए स्वतंत्र है। कृपया अपनी समझदारी और सूझ बूझ के साथ ही निवेश करें। निवेश करने से पहले पंजीकृत एक्सपर्ट्स की राय जरूर लें।



Source link

Leave a Comment